राफेल के बारे में ये बातें आप नहीं जानते होंगे- 20 Surprising Facts About Rafale Jet

15 Surprising Facts About Rafale Jet in Hindi

फ्रांस की दसॉल्ट एविएशन कंपनी द्वारा निर्मित राफेल फाइटर जेट (Rafale Fighter Jet) एक आधुनिक 4th जनरेशन मल्टी रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट है। इसमें बहुत सारे एडवांस्ड फीचर्स हैं जो इसे अन्य एयरक्राफ्ट की तुलना में बहुत ही खास बना देते हैं।

साल 2016 में भारत और फ्रांस के बीच 36 राफेल लड़ाकू विमानों की डील हुई थी जिसकी कीमत 58 हजार करोड़ रूपये थी।

जुलाई 2020 के अंतिम सप्ताह में 5 राफेल एयरक्राफ्ट्स की पहली खेप भारत पहुंचेगी। साल 2022 तक सभी 36 राफेल जेट भारत के जंगी बेड़े में शामिल हो जायेंगे।

इन 5 एयरक्राफ्ट्स को अम्बाला एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात किया जायेगा।

> भारत ने फ्रांस को हैमर मिसाइल के लिए इमरजेंसी आर्डर दिया है जिसके राफेल में लगने से ये फाइटर जेट और भी ज्यादा शक्तिशाली हो जायेगा।

> हैमर मिसाइल 65-70 km रेंज तक के टारगेट को नेस्तनाबूत कर सकती है। ये मिसाइल सिर्फ फ्रांस की वायुसेना के लिए बनाई गयी थी।

20 Surprising Facts About Rafale Jet

आइये जानते हैं राफेल (Rafale) से जुड़े 20 Surprising Facts:-

1. फ्रांस की दसॉल्ट एविएशन कंपनी द्वारा बनाये गए राफेल फाइटर जेट एक मात्र फाइटर जेट है जिसके पास ऐसा टार्गेटिंग पॉड (किसी विशेष जगह पर हमला करने के लिए टारगेट को सेट करने वाला यंत्र) है जो कलर इमेजरी प्रदान करता है।

2. राफेल में एक अद्वितीय “मैन-मशीन इंटरफेस” (MMI) है जो थ्रॉटल और स्टिक पर हाथ (Hands on Throttle and Stick: HOTAS) को एक टच स्क्रीन पर एकीकृत करता है, जिससे पायलट को प्रतिकूल परिस्थितियों में एक अनपेक्षित प्रदर्शन की अनुमति मिलती है क्योंकि सिस्टम संसाधनों को बाएं और दाएं टच स्क्रीन के माध्यम से प्रबंधित किया जाता है। 

3. इस एयरक्राफ्ट में एक उन्नत फ्लाई-बाय-वायर फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम (FCS) है जो एक एनालॉग चैनल और तीन डिजिटल चैनलों द्वारा नियंत्रित होता है जो अन्य प्लेटफार्मों पर अधिकतम विश्वसनीयता प्रदान करता है। राफेल के डिजिटल एफसीएस ने दस लाख उड़ान के घंटों में एक भी दुर्घटना का सामना नहीं किया है, जो राफेल को एक शानदार विश्वसनीयता और अधिकतम प्राथमिकता देता है।

4. राफेल सबसे आधुनिक 4th जनरेशन एयरक्राफ्ट्स में से एक है। यह कई प्रकार के आयुध को ले जाने में सक्षम है। यह टारगेट को बहुत ही ज्यादा सटीकता से हिट कर सकता है। ये एयरक्राफ्ट्स इस तरह बनाये गए हैं कि ये दुश्मन के हथियारों के प्रहार से खुद को बचा सकते हैं।

5. ये एयरक्राफ्ट अपनी डिज़ाइन के कारण फाइट के दौरान ज्यादा समय तक लड़ सकता है और लड़ाई के दौरान उच्च गतिशीलता प्रदान करता है।

6. राफेल अपने खाली वजन से लगभग ढाई गुना वजन तक के हथियारों को ले जाने में सक्षम है। अधिक पेलोड छमता के साथ-साथ कई प्रकार के हथियार ले जाने के कारण इसका मुकाबला करना किसी भी अन्य एयरक्राफ्ट के लिए आसान नहीं होगा। यही बात इसे बहुत ही ख़ास बनाती है।

7. इस फाइटर जेट में Active electronically scanned array (AESA) रडार है जिसकी रेंज 350km से ज्यादा है। राफेल में एक एकीकृत इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर (ईडब्ल्यू) प्रणाली भी है।

8. राफेल फाइटर जेट में छह एयर-टू-एयर मिसाइल (AAM), और छह विशेषज्ञ बम तक ले जाने की क्षमता है। राफेल को MBDA Meteor BVRAAM के साथ विजुअल रेंज एयर-टू-एयर मिसाइल और SCALP एयर-टू-ग्राउंड मिसाइलों के साथ एकीकृत किया गया है। ब्रह्मोस एनजी मिसाइल को भी इस पर एकीकृत किया जा सकता है।

9. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस में राफेल एयरक्राफ्ट में उड़ान भर चुके हैं।

10. राफेल को हिंदी में आंधी कहते हैं।

11. मिस्र, फ्रांस और क़तर के बाद भारत चौथा देश है जिसने राफेल को अपने जंगी बेड़े में शामिल किया है।

12. राफेल में हवा से हवा में ईंधन भरने की क्षमता है। यह buddy mode में एक और विमान में ईंधन भर सकता है। IAF के लिए राफेल का निर्माण भारत विशिष्ट संवर्द्धन (India Specific Enhancements: ISE) के आधार पर किया गया है।

13. राफेल लड़ाकू जेट में कई भारत-विशिष्ट संशोधन हैं। इनमें इज़राइली हेल्मेट-माउंटेड डिस्प्ले, लो बैंड जैमर, रडार वॉर्निंग रिसीवर्स, इन्फ्रा-रेड सर्च एंड ट्रैकिंग सिस्टम, 10-घंटे फ्लाइट डेटा रिकॉर्डिंग आदि शामिल हैं।

14. राफेल को Low Observable ( LO ) फीचर के साथ डिज़ाइन किया गया है जो इसे रडार से बच निकलने में मदद करता है। इसमें composite materials और Radar Absorbent Material के साथ-साथ रडार तरंगों का दमन करने वाले स्पाइक का इस्तेमाल किया गया है।

15. राफेल के ऑप्ट्रॉनिक सेक्टेरियल फ्रंटल में बाईं ओर एक इंफ्रा-रेड डिटेक्टर के साथ दो सेंसर होते हैं, जिन्हें FLIR के रूप में उपयोग किया जाता है, जो 100 किलोमीटर तक के हवाई लक्ष्यों का पता लगा सकता है और एक टीवी / आईआर सेंसर जिसमें लेजर रेंजफाइंडर होता है, जो 40 किलोमीटर तक के लक्ष्य की पहचान कर सकता है। ।

16. यह एयरक्राफ्ट एक बार ईंधन भरने पर 10 घंटे तक लगातार उड़ान भरने में सक्षम है।

17. राफेल एक मिनट में 60,000 फ़ीट की ऊंचाई तक जाने में सक्षम है।

18. इसकी अधिकतम रफ़्तार 2130 km/hr है।

19. राफेल की मारक छमता लगभग 3700 km है।

20. भारतीय वायु सेना को मिले राफेल विमानों की टेल पर एक नंबर दर्ज है जिसकी शुरुआत RB से होती है जैसे भारत को मिले पहले विमान पर RB-001 दर्ज है। इसमें RB भारत के वायु सेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया का शॉर्ट नाम है।

Leave a Reply